भारत में पहली बार: बुलेट ट्रेन परियोजना में ‘प्रारंभिक भूकंप जांच प्रणाली’ के लिए 28 भूकंपमापी

बुलेट ट्रेन परियोजना (मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर) के लिए 28 (28) भूकंपमापी यंत्र लगाए जाएंगे ताकि भूकंप के दौरान यात्रियों और महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।

जापानी शिंकानसेन तकनीक पर आधारित यह प्रारंभिक भूकंप जांच प्रणाली, प्राथमिक तरंगों के माध्यम से भूकंप-प्रेरित झटकों का पता लगाएगी और स्वचालित बिजली बंद करने में सक्षम करेगी। बिजली बंद होने का पता चलने पर आपातकालीन ब्रेक सक्रिय हो जाएंगे और प्रभावित क्षेत्र में चलने वाली ट्रेनें रुक जाएंगी।28 सीस्मोमीटर में से 22 को संरेखण के साथ स्थापित किया जाएगा। आठ महाराष्ट्र में होंगे – मुंबई, ठाणे, विरार और बोइसर – और चौदह गुजरात में – वापी, बिलिमोरा, सूरत, भरूच, वडोदरा, आनंद, महेमदाबाद और अहमदाबाद होंगे। संरेखण के साथ ट्रैक्शन सब-स्टेशनों और स्विचिंग पोस्ट में सीस्मोमीटर स्थापित किए जाएंगे।शेष छह सीस्मोमीटर (अंतर्देशीय सीस्मोमीटर के रूप में कहा जाता है) भूकंप के संभावित क्षेत्रों – महाराष्ट्र में खेड़, रत्नागिरी, लातूर और पांगरी और गुजरात में अदेसार और पुराने भुज में स्थापित किए जाएंगे।  एमएएचएसआर संरेखण के पास के क्षेत्र, जहां पिछले 100 वर्षों में 5.5 तीव्रता से अधिक के भूकंप आए हैं, जापानी विशेषज्ञों द्वारा सर्वेक्षण किया गया था। सूक्ष्म कंपन परीक्षण के माध्यम से विस्तृत सर्वेक्षण और मिट्टी की उपयुक्तता अध्ययन के बाद, उपरोक्त स्थलों का चयन किया गया था।

error: Content is protected !!